यात्रायें यात्रायें

ब्लूमबर्ग ग्लोबल बिजनेस फोरम में प्रधानमंत्री का संबोधन

सितम्बर 25, 2019

Friends!

Global Business और Economy के Nerve Centre न्यूयॉर्क में, आप सभी दिग्गजों के बीच आना मेरे लिए हर्ष का विषय है।

ब्लूमबर्ग Global Business Forum ने मुझे भारत की भावनाओं और संभावनाओं पर, भारत की अपेक्षाओं और उम्मीदों पर, भारत की ग्रोथ स्टोरी और भारत के फ्यूचर डायरेक्शन पर अपनी बात रखने का अवसर दिया, इसके लिए मैं उनका बहुत-बहुत आभारी हूं।

साथियों,

आज आप भारत में फिर उस सरकार को देख रहे हैं जो अपने पाँच साल के काम को लेकर जनता के बीच गई और पहले से ज्यादा संख्या लेकर आई।

आप लोग अपनी बातचीत में अकसर बिजनेस सेन्टीमेंट की बात करते हैं। इस चुनाव में 130 करोड़ भारतीयों ने अपना सेन्टीमेंट ही नहीं जताया है बल्कि जजमेंट भी दे दिया है कि विकास ही उनकी सबसे बड़ी प्राथमिकता है।

और यहां बैठे बिजनेस लीडर्स समझ सकते हैं कि विकास के पक्ष में यह सबल mandate वास्तव में भारत में नए अवसरों का एलान है।

आज भारत की जनता उस सरकार के साथ खड़ी है जो बिजनेस Environment सुधारने के लिए बड़े से बड़े और कड़े से कड़े फैसले लेने में पीछे नहीं रहती।

आज भारत में एक ऐसी सरकार है जो बिजनेस वर्ल्ड का सम्मान करती है, वेल्थ क्रिएशन का सम्मान करती है।

साथियों,

आपकी जानकारी में होगा कि अभी कुछ दिन पहले ही हमने कॉरपोरेट टैक्स में भारी कमी करने का फैसला लिया है। ये निवेश के स्तर से बहुत क्रांतिकारी कदम है और इस फैसले के बाद मेरी बिजनेस वर्ल्ड के जितने भी लोगों से बात हुई, मुलाकात हुई, वो इसे बहुत ऐतिहासिक मान रहे हैं।

इस दौरान निवेश बढ़ाने के लिए एक के बाद एक कई फैसलों का ऐलान सरकार द्वारा किया गया है। हमने 50 से ज्यादा ऐसे पुराने कानूनों को भी समाप्त कर दिया है, जो विकास के कार्यों में बाधा उत्पन्न कर रहे थे।

मैं आपको फिर याद दिला दूं, हमारी नई सरकार को अभी तीन-चार महीने से ज्यादा नहीं हुए हैं।

आज इस मंच से मैं कहना चाहता हूं कि ये तो अभी शुरुआत हुई है। अभी लंबा समय आगे बाकी है। इस सफर में भारत के साथ पार्टनरशिप करने के लिए ये पूरे विश्व के बिजनेस वर्ल्ड के लिए सुनहरा मौका है।

Friends

Today, India is in a यूनीक position where our rapid growth enables us to cater to डाइवर्स demand.

Our people are rapidly defeating poverty, moving up the economic लैडर and डाइवर्सिफाइंग their consumption. Thus, if you want to invest in a market where there is scale, come to India.

Our middles class is a huge segment of people who are एस्पीरेशनल and has a global outlook. Thus, if you want to invest in a market where the latest trends and features are appreciated, come to India.

Our youth are one of the largest users of the app economy. From food to transport and from movies to हाइपरलोकल delivery, start-ups are एसिंग everything. Thus if you want to invest in start-ups with a huge market, come to India.

Our infrastructure creation is expanding at an अनप्रेसिडेंटेड pace. From highways to metros, from railways to ports, from airports to logistics, each sector is seeing massive investment and ट्रेमेन्डस potential.

Thus, if you want to invest in one of the world’s largest infrastructure ecosystem, come to India.

We are rapidly modernising our cities, and equipping them with latest technology and citizen friendly infrastructure. Thus if you want to invest in urbanisation, come to India.

We have opened our defence sector like never before. If you want to Make in India, for India and for the world, come to India.

साथियों,

भारत में इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास पर आज जितना हमारी सरकार निवेश कर रही है, उतना पहले कभी नहीं किया गया।

अब हम आने वाले वर्षों में 100 लाख करोड़ रुपए, यानि लगभग 1.3 ट्रिलियन डालर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च करने जा रहे हैं। इसके अलावा भारत के सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी लाखों करोड़ रुपए खर्च किए जा रहा हैं।

भारत की Growth Story में क्वालिटेटिव और क्वांटिटेटिव लीप का रोडमैप जमीन पर उतर चुका है। अब भारत ने एक बड़ा लक्ष्य रखा है- देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने का।

साथियों,

जब 2014 में हम सरकार में आए थे, तो देश की इकॉनॉमी करीब-करीब 2 ट्रिलियन डॉलर के आसपास थी।

बीते पाँच वर्षों में हमने इसमें लगभग एक ट्रिलियन डॉलर और जोड़ दिया।

और अब हम कमर कसकर 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए काम कर रहे हैं।

Friends,

इस बड़े टारगेट को अचीव करने के लिए हमारे पास Capability भी है, Courage भी है और Conditions भी हमारे साथ हैं।

आज भारत की ग्रोथ स्टोरी के चार अहम फैक्टर हैं जो एक साथ, दुनिया में मिलने मुश्किल हैं।

ये 4 फैक्टर हैं, Democracy, Demography, Demand और Decisiveness

अगर मैं पहले फैक्टर की बात करूं तो भारत में ऐसा मौका, ऐसी Political Stability कई दशकों के बाद आई है।

जब Democracy हो, Political stability हो, Policy Predictable हो, Judiciary independent हो, तो Investment की Safety, Security और Growth का भरोसा अपने आप मिलता है।

Friends,

इस Growth को बल मिलता है भारत के Demographic Dividend से, Young और Energetic Talent Pool से।

भारत आज दुनिया के सबसे बड़े Engineering Education base और सबसे मजबूत R&D Facilities वाले देशों में से एक है।

Innovation को लेकर जो Encouragement भारत के युवाओं को मिल रहा है, उसके कारण अमेरिका और चीन के बाद भारत Unicorns के मामले में 3rd नंबर पर है।

Friends,

तीसरा Demand का फैक्टर है। जैसे-जैसे भारत की बड़ी आबादी Economically Empowered हो रही है, Purchasing power बढ़ रही है, वैसे-वैसे डिमांड भी बढ़ रही है।

उदाहरण के लिए, पिछले कुछ वर्षों से Air Passenger Traffic की ग्रोथ डबल डिजिट में है। जिसके चलते आज भारत दुनिया का तीसरा बड़ा Aviation Market बन चुका है।

Friends,

Democracy, Demography और Demand के साथ ही आज जो बात भारत को विशेष बनाती है, वो है Decisiveness.

एक Diverse और Federal Democracy होने के बावजूद बीते 5 वर्ष में पूरे भारत के लिए Seamless, Inclusive और Transparent व्यवस्थाएं तैयार करने पर बल दिया गया है।

· जहां पहले भारत में टैक्स का जाल था, वहीं अब GST के रूप में एक ही Indirect Tax Regime पूरे देश के बिजनेस कल्चर का हिस्सा बन चुकी है।

· IPR एवं ट्रेड मार्क की रिजीम को मजबूत बनाने के लिए भी हमने काफी काम किया।

· इसी तरह इन्सॉलवेंसी और बैंकरप्सी से निपटने के लिए इन्सॉलवेंसी and बैंकरप्सी Code बनाया।

· Tax से जुड़े कानूनों और Equity Investments पर Tax को Global Tax Regime के बराबर लाने के लिए हम जरूरी सुधार निरंतर करते रहेंगे।

Tax Reforms के अलावा, दुनिया का सबसे बड़ा Financial Inclusion में भारत में बहुत कम समय में हुआ है। करीब 370 मिलियन लोगों को बीते 4-5 साल में बैंकिंग से पहली बार जोड़ा गया है।

आज भारत के करीब-करीब हर नागरिक के पास Unique आई डी है, मोबाइल फोन और बैंक अकाउंट है। जिसके कारण Targeted Service Delivery में तेजी आई, Leakage बंद हुई और ट्रांसपेरेंसी कई गुना बढ़ी है।

Friends,

New India में हमने de-regulation, de-licensing और डी-बॉटलनैकिंग की मुहिम चलाई है।

ऐसे ही Reforms के कारण हर Global Ranking में भारत निरंतर बेहतर प्रदर्शन करता जा रहा है।

Logistics Performance Index में 10 Rank का जंप Global कम्पिटीटिवनेस Index में 13 अंक का उछाल Global Innovation Index में 24 नंबर का सुधार और सबसे अहम, World Bank’s Ease of Doing Business Index में 65 Rank का सुधार अभूतपूर्व हैं, असाधारण हैं। और साथियों आप सभी ये भी भली-भांति जानते हैं कि ये रैंकिंग्स ऐसे ही नहीं सुधरतीं।

हमने बिल्कुल ग्राउंड लेवल पर जाकर व्यवस्थाओं में सुधार किया है, नियमों को आसान बनाया है।

मैं आपको एक उदाहरण देता हूं। पहले बिजली कनेक्शन लेने के लिए उद्योगों को कई साल लग जाते थे। अब कुछ दिनों के भीतर बिजली कनेक्शन मिलने लगा है।

इसी तरह कंपनी रजिस्ट्रेशन करने में पहले कई हफ्ते लग जाते थे। अब कुछ ही घंटों में कंपनी रजिस्ट्रेशन हो जाता है।

बीते 5 वर्ष में क्या परिवर्तन आया इसका एक उदाहरण मैं आपको देता हूं।

बीते 5 सालों में भारत में 286 बिलियन FDI हुआ है। ये बीते 20 साल में भारत के Total FDI Inflow का Half है।

अमेरिका ने भी जितना FDI बीते दशकों में भारत में किया है, उसका 50 Percent सिर्फ पिछले 4 सालों में हुआ है। और ये तब है जब पूरी दुनिया में FDI Inflow Level कम हो रहा है। इसमें भी एक और Interesting बात ये है कि करीब 90 Percent FDI Automatic Route से हुआ है और 40 Percent ग्रीनफील्ड Investment है। यानि आज Investor का भारत पर भरोसा बढ़ा है और वो लंबे समय के लिए आ रहा है।

Friends,

ब्लूमबर्ग की अपनी रिपोर्ट भी भारत में आ रहे बदलाव की गवाह है। ब्लूमबर्ग के Nation Brand Tracker- 2018 सर्वे में भारत को Investment के लिहाज़ से एशिया में पहला नंबर दिया गया है। 10 में से 7 Indicators - Political stability, Currency stability, High quality products, Anti-corruption, Low cost of production, Strategic location और respect for IPR, में भारत नंबर वन रहा है। बाकी Indicators में भी ऊपर की जगह पर है।

Friends,

Your desires and our dreams match perfectly; Your technology and our talent can change the world; Your scale and our skills can speed up global economic growth;

Your prudent Method and our pragmatic Mind can write new stories in Management;

Your rational ways and our human values can show the path which the world is looking for.

And if there is any gap anywhere;

I will personally act as a bridge.

Thank You!

न्यूयॉर्क
सितंबर 25, 2019


टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code